महाराष्ट्र: अब उद्धव ठाकरे के करीबी मंत्री अनिल परब पर लगे 300 करोड़ वसूली के आरोप, शिकायत दर्ज

नासिक में आरटीओ इंस्पेक्टर ने दर्ज कराई शिकायत

नासिक के एक निलंबित आरटीओ इंस्पेक्टर ने परब पर परिवहन विभाग के अधिकारियों की ट्रांसफर व पोस्टिंग में 300 करोड़ रुपये की वसूली करने का आरोप लगाते हुए पंचवटी पुलिस थाने में शिकायत दर्ज कराई है। इसके बाद विपक्ष ने अनिल परब के इस्तीफे की मांग शुरू कर दी है।

निलंबित आरटीओ इंस्पेक्टर गजेंद्र पाटिल ने शिकायत पत्र में परिवहन मंत्री अनिल परब, ट्रांसपोर्ट कमिश्नर अविनाश ढाकणे सहित पांच अधिकारियों के खिलाफ करोड़ों की वसूली का आरोप लगाया है। पाटिल की शिकायत के मुताबिक आरटीओ अधिकारियों की ट्रांसफर पोस्टिंग के लिए करोड़ों रुपये की मोटी रकम अनिल परब के इशारे पर वसूली जाती थी।

इस तरह 250 से 300 करोड़ रुपये की वसूली की गई है। जानकारी के अनुसार यह शिकायत 15 मई को दी गई थी जिसमें कहा गया है कि इस वसूली रैकेट का मास्टरमाइंड वर्धा में तैनात डिप्टी आरटीओ बजरंग खरमाटे है, जो अनिल परब के इशारे पर ट्रांसपोर्ट कमिश्नर के साथ मिलकर ट्रांसफर-पोस्टिंग का रैकेट चलाता है।

Also Read: राहुल गांधी ने यूपी के अमेठी में कोविड मरीजों के लिए 10,000 मेडिकल किट भेजे

हालांकि इस आरोप के बाद पुलिस सीधे तौर पर एफआईआर दर्ज करने से बच रही है। लेकिन, शिकायत मिलने के 13 दिन बाद नासिक पुलिस आयुक्त दीपक पांडेय ने डीसीपी (क्राइम ब्रांच) को इस मामले की जांच के आदेश दिए हैं। वहीं, अनिल परब ने इस पर कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है।

मंत्री पद से इस्तीफा दें परब : मनसे

महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना के नेता संदीप देशपांडे ने कहा कि राज्य सरकार की वसूली 100 करोड़ से सीधे 300 करोड़ तक पहुंच गई है। यह बहुत ही गंभीर मामला है। वसूली के आरोप के मामले में अनिल परब को परिवहन मंत्री पद से इस्तीफा दे देना चाहिए। क्योंकि उनके इस्तीफे के बिना इसकी निष्पक्ष जांच संभव नहीं है।

Source link

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Close Bitnami banner
Bitnami